कायस्थों के सामाजिक , आर्थिक , शैक्षणिक और राजनीतिक प्रगति के लिए अभियान चलाएगा जीकेसी

कायस्थों के सामाजिक , आर्थिक , शैक्षणिक और राजनीतिक प्रगति के लिए अभियान चलाएगा जीकेसी

कायस्थों के सामाजिक , आर्थिक , शैक्षणिक और राजनीतिक प्रगति के लिए अभियान चलाएगा जीकेसी
स्वामी विवेकानंद और जीकेसी के सात मूल सिद्धांतों को जीवन में आत्मसात करने की जरूरत : राजीव रंजन प्रसाद
ग्लोबल कायस्थ कॉन्फ्रेंस बिहार इकाई की पहली वर्चुअल मीटिंग संपन्न

पटना, 16 मई ग्लोबल कायस्थ कॉन्फ्रेंस (जीकेसी) प्रदेश भर में कायस्थों के सामाजिक आर्थिक शैक्षणिक तथा सांस्कृतिक प्रगति के लिए राज्यव्यापी अभियान चलाएगा और संगठन को जिला शहर से लेकर पंचायत स्तर तक मजबूत कर राजनीति में भी अपनी मजबूत भागीदारी सुनिश्चित करेगा। आज जीकेसी के राज्य के सभी जिला अध्यक्षों की हुई वर्चुअल बैठक में इस पर विचार विमर्श कर यह निर्णय लिया गया।
बैठक में जीकेसी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजीव रंजन प्रसाद ने स्वामी विवेकानंद के विचारों और जीकेसी के सात मूलभूत सिद्धांतों को जीवन में आत्मसात करने पर जोर देते हुये कहा कि ऐसा करने से कायस्थ समाज अपने सर्वांगीण विकास के लक्ष्य को पाने में सफल होगा।
जीकेसी की प्रदेश अध्यक्ष डा. नम्रता आनंद की अध्यक्षता में जीकेसी बिहार ईकाई की पहली वर्चुअल मीटिंग संपन्न हुई। वर्चुअल मीटिंग में सभी जिलाध्यक्ष और पदाधिकारियों ने राष्ट्रीय अध्यक्ष राजीव रंजन प्रसाद के नेतृत्व में कायस्थ समाज के सर्वांगीण विकास और उत्थान के लिये उनकी हर संभव सहायता देने का संकल्प लिया। बैठक में जीकेसी बिहार ईकाई की ओर से सामाजिक और आर्थिक विकास के लिए रोड मैप की रूपरेखा भी तैयार की गयी।
बैठक की शुरुआत प्रदेश सचिव श्री मती शिखा स्वरूप जी ने बिहार की महिमा बिहार गान गाकर प्रस्तुत की।
डॉ नम्रता आनंद ने राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री राजीव रंजन प्रसाद जी के सात मूलभूत सिद्धांत सेवा, सहयोग, संप्रेषण,सरलता,समन्वय,सकारात्मकता और संवेदशनीलता को जीवन में आत्मसात करने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि हम सभी को मिलकर जीकेसी बिहार की ईकाई को विस्तार करने की जरूरत है।संगठन को आगे बढ़ाने के लिए सोच और विचारधारा का ज़मीनी स्तर पर क्रियान्वयन की जरूरत है। उन्होंने बताया कि जीकेसी की स्थापना का महत्वपूर्ण उद्देश्य सम्पूर्ण कायस्थ समाज को संगठित, उन्नत एवं सशक्त करना है। कायस्थ समाज के लोगों को एक दूसरे से समन्वय स्थापित करने की जरूरत है, जिससे उनका सर्वांगीण विकास हो सके। डॉ राजीव रंजन प्रसाद ने कहा भारतवर्ष का स्वर्णिम इतिहास चाहे वह प्राचीन, मध्य इतिहास हो या आधुनिक इतिहास ,साक्षी है कायस्थ समाज की विभूतियों के योगदान की कोई अनदेखी नहीं कर सकता है। देश के पहले राष्ट्रपति डा. राजेन्द्र प्रसाद और दूसरे प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री कायस्थ थे। बिहार के गौरवशाली निर्माण में कायस्थ की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। हमारे गौरवशाली इतिहास में राजा महाराजा ही नही ,शिक्षाविद ,न्यायविद,प्रतिभाशाली पत्रकार ,चिकित्सक,कलाकार,या यूं कहें कि हर क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन देने वाले एक से एक कुल विभूति हुये हैं। आज हमें अपनी समृद्ध जनसंख्या को एकजुटकर के इतिहास गढ़ने की क्षमता को समझना होगा।अपने कुल और पूर्वजों के गौरवमयी इतिहास से प्रेरित होते हुए राजनैतिक तौर पर भी चैतन्य होने की आवश्यकता है।
राजीव रंजन प्रसाद ने बताया कि देशभर के अधिकांश राज्य के साथ ही कई मुल्कों में भी कायस्थ समाज से जुड़े लोग जीकेसी में शामिल हुये हैं। जीकेसी के सिद्धांतों से प्रभावित होकर कई कायस्थ संगठनों ने जीकेसी में विलय किया है।स्वामी विवेकानंद के विचार उठो , जागो , बढ़ो और तबतक मत रुको जबतक की लक्ष्य न प्राप्त हो जाये को जीवन में आत्मसात करने की जरूरत है। हम जबतक अपने लक्ष्य कायस्थ समाज के सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक विकास के लक्ष्य को पा नहीं लेते हैं हमें अपने सहयोगियों के साथ कदम से कदम मिलाकर प्रत्यनशील होना होगा। राजधानी पटना में हाल ही में महान कवियित्री और सुविख्यात लेखिका महादेवी वर्मा की जयंती 26 मार्च के अवसर पर महादेवी वर्मा सम्मान समारोह का आयोजन किया गया।उन्होंने बताया कि जीकेसी 29 जुलाई 2021 को स्व. मानस बिहारी वर्मा की जयंती के अवसर पर विज्ञान के क्षेत्र में उच्च शिक्षा प्राप्त कर रहे एक होनहार छात्र को स्कॉलर शिप के लिए बनायी जाने वाली समिति की अनुशंसा के आधार पर छात्रवृति प्रदान करेगी।
इस अवसर पर जीकेसी की प्रदेश अध्यक्ष डा. नम्रता आंनद ने कहा कि जीकेसी का गठन का मूल मकसद कायस्थ समाज के लोगों का राजनीतिक, आर्थिक और सामाजिक विकास करना है। जीकेसी के गठन के साथ ही धरातल पर काम करने वाले प्रतिभाशाली लोगों की टीम बनायी गयी है, जो सबका साथ और सबका विकास के साथ काम करने में कृत संकल्पित हैं।
जीकेसी के राष्ट्रीय प्रवक्ता कमल किशोर ने कहा कि संगठन को ग्रास रूट लेवल पर मजबूत किया जाना चाहिये। गांव‘गिराव में भी जो हमारे कायस्थ परिवार के लोग हैं उन्हें जीकेसी के साथ जोड़े जाने की जरूरत है। बिहार ग्लोबल कायस्थ कांफ्रेंस मीडिया सेल के प्रदेश अध्यक्ष निखिल के डी वर्मा ने कहा कि संगठन के सदस्यता अभियान में तेजी लाने की आवश्यकता है। इसके लिए प्रदेश मीडिया सेल हर सम्भव योगदान देगा। चित्रांशों को समाज के बीच पुनःस्थापित करने में जीकेसी संगठन के सिद्धांतों के व्यापक प्रसार के लिए मीडिया सेल तत्पर है।
इस अवसर पर जीकेसी के वरिष्ठ राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अखिलेश श्रीवास्तव, जीकेसी,राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दीपक अभिषेक, डिजिटल-संचार प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय अध्यक्ष आनंद कुमार सिन्हा, मीडिया सेल के राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रेम कुमार, जीकेसी डिजिटल-संचार प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय महासचिव सौरभ श्रीवास्तव, कला-संस्कृति प्रकोष्ठ की सचिव श्रीमती श्वेता सुमन, युवा प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय महासचिव कुमार आर्यन,बिहार जीकेसी की महिला-अध्यक्ष डॉ श्रीमती ऋतुराज, महिला-कार्यकारी अध्यक्ष श्रीमती सम्पन्नता वरुण, युवा कार्यकारी अध्यक्ष सुशांत सिन्हा समेत कई अन्य लोगों ने अपने विचार साझा किये। । अंत में धन्यवाद ज्ञापन करते हुए बिहार के प्रदेश अध्यक्ष डॉ नम्रता आनंद ने कहा ग्लोबल कायस्थ कॉन्फ्रेंस अब कायस्थों को एक मंच पर लाएगा और कायस्थों की राजनीतिक हक मारी के खिलाफ एकजुट होकर लड़ाई लड़ेगा। बैठक का समापन डॉ नम्रता आनंद ने एक प्रार्थना इतनी शक्ति हमें देना दाता मन का विश्वास कमजोर हो ना गाकर किया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *